Archive | December 2018

        जीवन नाशवान है 

     

      एक अमेरिकन पर्यटक एक बार मिस्त्र के काहिरा नामक शहर में एक विख्यात विद्वान से मिलने गया. उस विद्वान के निवास-स्थान पर पहुँचने पर पर्यटक ने पाया कि उसका घर बहुत ही साधारण था और घर में नाम मात्र का फर्नीचर था. कमरे में सिर्फ एक पलंग, एक मेज़ और एक तख़्त था. lotus

     पर्यटक बहुत चकित था और उसने ज्ञानी पुरुष से पूछा, “आपका और दूसरा फर्नीचर कहाँ है? ” पर्यटक को उत्तर देने के बजाय ज्ञानी व्यक्ति ने उससे पूछा, “और तुम्हारा कहाँ है?”

     ‘मेरा? ”   विस्मित पर्यटक ने जवाब दिया. “मैं एक पर्यटक हूँ और मैं केवल देखने आया हूँ; पास से निकलते हुए.”

      तब ज्ञानी पुरुष बोले, “पृथ्वी पर जीवन केवल कुछ समय का ही है…..फिर भी कुछ लोग इस प्रकार जीते हैं जैसे कि वह यहाँ सदा के लिए रहने आए हैं- वह खुश रहना भूल जाते हैं.” “मैं भी केवल गुज़र ही रहा हूँ.”

   सार:

    आदि शंकर बतलाते हैं कि कमल पर पड़ी ओस की बूँद की तरह जीवन नाशवान है. कमल कीचड़दार जल में उगता है परन्तु अपने पास-पड़ोस से अनभिज्ञ रहता है. 

lotus

    पानी की बूँद कमल के पत्ते पर रहते हुए भी उससे असम्बद्ध रहती है. इसी प्रकार हमारा नश्वर जीवन भी बीमारी, शोक, अभिमान व अहंकार से घिरा हुआ है. हमें कमल से सीखना है कि स्वयं को अस्थायी से जोड़े बिना जीवन कैसे बिताना है और वह जो शाश्वत है, उसे तलाशना है. हमें जीवन के अस्थायी रूप को समझकर जीवन का निर्वाह अर्थपूर्ण ढंग से करना चाहिए. केवल नामस्मरण से हम सच्चा प्रेम व ख़ुशी प्राप्त कर सकते हैं और चिरस्थायी सत्य का पता लगा सकते हैं.

  source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com/bal govindam   

अनुवादक- अर्चना 

      

Advertisements

      बन्दर और मूँगफली

mon

    यह कहानी बन्दर पकड़ने वालों के बन्दर पकड़ने के बारे में है. एक बन्दर पकड़ने वाले ने किसी पेड़ पर बहुत सारे बन्दर देखे और उन्हें पकड़ने के लिए उसे एक योजना सूझी. 

monkey1

    उसने ढेर सारी मूँगफलियाँ लीं और उन्हें एक लम्बे मगर संकीर्ण गर्दन वाले मटके में डालकर उसे पेड़ के नीचे छोड़ दिया. बन्दर यह ध्यान से देख रहे थे. बंदरों को मूँगफलियाँ अत्यंत प्रिय होती हैं अतः वह सब, बन्दर पकड़ने वाले के जाने का इंतज़ार करने लगे. 

monkey2

    उसके जाते ही एक बन्दर कूदकर  झटपट नीचे आया और मूँगफलियाँ लेने के लिए उसने अपना हाथ मटके के अंदर डाला. अपने monkey3हाथ में खूब सारी मूँगफलियाँ देखकर वह बेहद खुश था और मूँगफली खाने के लिए झटपट हाथ बाहर निकालने की कोशिश करने लगा. परन्तु वह कितनी भी कोशिश करता, वह अपना हाथ बाहर निकाल नहीं पा रहा था. उसका हाथ मटके की संकरी गर्दन में फँस गया था. बन्दर को मूँगफली इतनी प्रिय थी कि एक बार मुठ्ठी भर लेने के बाद, वह उन्हें छोड़ने को तैयार नहीं था. इसके परिणामस्वरूप वह हाथ बाहर नहीं निकाल पा रहा था. बन्दर का हाथ फंसा देखकर बन्दर पकड़ने वाला ख़ुशी-ख़ुशी आया और बन्दर को ले गया.

   यदि बन्दर ने मूँगफलियों को छोड़ दिया होता तो वह बच गया होता. परन्तु मूँगफलियों के प्रति लालच व अनुराग ने उसे ऐसा करने नहीं दिया जिसके कारण वह फँस गया और अंततः बन्दर पकड़ने वाले द्वारा पकड़े जाने पर अत्यंत दुखी हुआ.

    सारांश :

    आदि शंकर हमसे हमारे जीवन में समझ व जागरूकता लाने को कहते हैं; प्रेम व अनासक्ति विकसित करने को कहते हैं. धन कमाना निस्संदेह ही आवश्यक है परन्तु उसे उचित ढ़ंग से कमाना चाहिए और इस प्रकार कमाए धन से हमें संतुष्ट रहना चाहिए. मनुष्य को भ्रान्ति, माया व धन के प्रति मोह का त्याग करना चाहिए. मनुष्य जितना ज्यादा आसक्त रहेगा और वस्तुओं पर अपनी पकड़ ढीली करने से इंकार करता रहेगा; उतना ही वह बन्दर की तरह जाल में फंसा रहेगा.

   कहा जाता है, “सभी ज़रूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त साधन हैं परन्तु सभी की लालसा के लिए नहीं.” लालच मनुष्य को अनुचित माध्यम से उपार्जन करने के लिए विवश करती है और ज़रूरतमंद लोगों की मदद के लिए धन से अलग नहीं होने देती है. जब धन प्रेम, ईमानदारी व सच्चाई से कमाया जाता है तब वह अधिक संतोषप्रद होता है. इसलिए शंकर नसीहत देते हैं; अरे मूर्ख मन! अनासक्ति की भावना का विकास करो, उचित रूप से जीवन व्यतीत करो और गोविन्द की तलाश करो.

   ऐसा केवल धन के लिए ही नहीं बल्कि रिश्तेदारी के लिए भी सत्य है. कई माता-पिता अपने बच्चों से इतने सम्बद्ध रहते हैं कि वह अपने ही बच्चों, जिन्हें वह प्रेम करते हैं, की प्रगति और संवृद्धि का गला घोंट देते हैं. आसक्ति उन्हें अँधा कर देती है. एक बार बच्चे के बड़ा हो जाने पर माता-पिता को उन्हें छोड़ देना चाहिए. माता-पिता को बच्चों से हमेशा प्रेम अवश्य करना चाहिए लेकिन  मददगार रहते हुए ज़रुरत पड़ने पर बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए. ऐसा होने से बच्चों व माता-पिता का रिश्ता ख़ूबसूरत बनता है. दोनों में पारस्परिक सम्मान व प्रेम की भावना क़ायम रहती है और रिश्ते अत्यधिक प्रेम व अधिपत्य के बोझ तले दबते नहीं हैं.  

Source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

   अनुवादक-अर्चना