Archive | June 2018

  ध्यान रखने वाला बेटा

      son

       आदर्श: उचित आचरण 

   उप आदर्श: सम्मान, प्रेम 

    एक बेटा अपनी बूढ़ी माँ को एक शाम खाने के लिए रेस्टोरेंट ले गया. माँ बुज़ुर्ग व कमज़ोर थी और इस कारण खाना खाते समय उससे खाना उसके कपड़ों पर गिर गया. अन्य भोजन करने वाले लोग उसे घृणापूर्ण निगाहों से देखने लगे पर पुत्र शांत था.

    माँ ने जब खाना ख़त्म कर लिया तब बेटा बिलकुल भी लज्जित नहीं था.वह माँ को धीरे से शौचघर ले गया, उसके कपड़ों से खाने के कण पोंछे, दाग साफ़ किए, उसके बाल ठीक किए और उसे चश्मा ठीक से पहनाया. जब माँ और बेटा शौचघर से बाहर निकले तो समस्त रेस्टोरेंट उन्हें अचूक ख़ामोशी से देख रहा था. वहाँ मौजूद सभी लोग यह समझ नहीं पा रहे थे कि इस प्रकार खुले आम कोई स्वयं को कैसे लज्जित कर सकता है.

 पुत्र ने बिल का भुगतान किया और माँ के साथ बाहर जाने लगा. 

 तभी भोजन करने वालों में से एक वृद्ध पुरुष ने बेटे को बुलाया और उससे पूछा, “तुम्हें नहीं लगता कि तुम कुछ छोड़कर जा रहे हो?”

   पुत्र ने उत्तर दिया, “नहीं महाशय! ”

  वृद्ध पुरुष ने प्रत्त्युतर दिया, “हाँ, तुमने छोड़ा है. तुमने प्रत्येक पुत्र के लिए एक सीख और हर माँ के लिए उम्मीद छोड़ी है.”

   रेस्टोरेंट में सन्नाटा छा गया.

    सीख:

  जब हमारे माता-पिता बूढ़े हो जाते हैं तब हमें उन्हें भूलना नहीं चाहिए. हमें उनके रूप व व्यवहार को लेकर कभी भी शर्मिंदा नहीं होना चाहिए. हमें हमारे माता-पिता, खासतौर से माँ, के समान कोई भी और निस्स्वार्थ भाव से प्यार नहीं कर सकता है. हमें सदा उनके प्रति कृतार्थ रहना चाहिए और उन्हें प्रेम व सम्मान देना चाहिए.

son1

source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

  अनुवादक- अर्चना    

Advertisements

      गुरु का प्रिय 

                guru

        आदर्श: उचित आचरण

    उप आदर्श: सकारात्मकता, प्रभु को समर्पण 

     एक समय किसी जंगल में अंगिरस नामक एक महान ऋषि रहते थे. उनके बहुत सारे शिष्य थे. उन सभी ने ऋषि के ज्ञान व विवेक से काफी लाभ उठाया था. ऋषि के शिष्यों में कुछ शिष्य ऐसे थे जो दूसरों की अपेक्षा अधिक सक्षम थे और अपने गुरु की सीख का ध्यानपूर्वक अनुसरण करते थे. अपनी धार्मिक प्रवृत्ति के कारण अन्य शिष्य उनका सम्मान करते थे. 

     परन्तु कुछ मूर्ख शिष्य अपने प्रतिभावान साथियों से धीरे-धीरे ईर्ष्या करने लगे. हालांकि अपने गुरु की शिक्षा को मंद गति से सीखने के लिए वह स्वयं ज़िम्मेवार थे परन्तु वह अपने गुरु की निष्पक्षता पर संदेह करने लगे. उन्हें ऐसा लगने लगा कि गुरुजी अपने प्रतिभावान शिष्यों को गुप्त रूप से विशेष शिक्षा प्रदान कर रहे थे. 

     एक दिन जब गुरुजी अकेले थे तब यह मंदबुद्धि शिष्यों का गुट उनके पास गया और बोला, “गुरुजी! हमें ऐसा लगता है कि आप हमारे प्रति अन्यायी हैं. हमारी समझ से आप अपने ज्ञान का सम्पूर्ण लाभ केवल कुछ चुनिंदा शिष्यों को ही देते हैं. इस प्रकार के विशेषाधिकार आप हमें भी क्यों नहीं दे सकते?”

guru1

     इस प्रकार के शब्द सुनकर गुरु कुछ अचंभित थे पर उन्होंने धीरतापूर्वक उत्तर दिया, “मैंने हमेशा तुम सब के साथ एक समान व्यवहार किया है और कभी किसी के प्रति कोई पक्षपात नहीं किया है. यदि तुममें से कुछ शीघ्र प्रगति करते हो तो उसका एकमात्र कारण मेरी शिक्षाओं पर ध्यानपूर्वक अमल करना है. तुम्हें पहलकदमी करने से किसने रोका है?” 

   परन्तु शिष्य अपने गुरु की बात से सहमत नहीं थे. अतः कुछ देर सोचने के बाद गुरु बोले, “ठीक है, तुममें से जिन्हें शिकायत है, मैं उन पर विशेष ध्यान दूँगा पर एक शर्त पर. मैं तुम्हें एक सामान्य सी सरल परीक्षा दूँगा और तुम्हें उसमें उत्तीर्ण होना होगा. तुम्हारी परीक्षा यह है कि पास के गाँव में, जहाँ तुम अक्सर जाते हो, जाकर एक अच्छा व्यक्ति मेरे पास लेकर आओ.”

     शिकायत करने वाले शिष्य बहुत खुश थे कि इतनी सरल सी परीक्षा का इनाम इतना अमित होगा. उन्होंने तुरंत अपने गुट का प्रतिनिधि चुना जिसने पूरे जोश व उत्साह के साथ खोज शुरू कर दी. गुट के सभी शिष्यों को पूरा विश्वास था कि उनका प्रतिनिधि अवश्य ही एक अच्छे व्यक्ति को ढूँढ निकालेगा. परन्तु दुर्भाग्यवश वह जहाँ भी गया और जिससे भी मिला, सभी ने कोई न कोई अपराध या कुकर्म किया हुआ था. लम्बी व निरर्थक खोज के बाद, पूर्णतय निराश होकर वह अपने गुट व गुरु के पास वापस लौटा और हताशपूर्ण स्वर में बोला, “गुरुजी, यह बताते हुए मुझे बहुत खेद हो रहा है कि पूरे गाँव में एक भी अच्छा व्यक्ति नहीं है. सभी ने बुरा कर्म, अपराध या अनैतिक काम किया हुआ है. समस्त गाँव बुरे व्यक्तियों से भरा हुआ है.”

   “ओह! ऐसी बात है?” गुरु ने नकली खेद करते हुए कहा. “अब मैं उस गाँव में दूसरे गुट से एक शिष्य को भेजता हूँ जिससे तुम्हें शिकवा है.”

   गुरु ने दूसरे गुट के एक शिष्य को बुलाया और बोले, “निकट के जिस गाँव में तुम्हारा यह साथी गया था, क्या तुम वहाँ जाकर अपने साथ एक बुरा व्यक्ति ला सकते हो?”

    शिष्य बोला, “गुरुजी, आपके आशीर्वाद से मैं कोशिश करूँगा.” ऐसा कहकर वह वहाँ से चला गया. 

    शिकायत करने वाले शिष्य एक बार पुनः चकित थे और गुरुजी से बोले, “इस बार भी आपने हमारे साथ बेइंसाफी की है. वह गाँव बुरे व्यक्तियों से भरा हुआ है अतः आपका वह शिष्य निस्संदेह अनेकों बुरे व्यक्ति लेकर आएगा.”  

    गुरु ने सभी शिष्यों को धीरज रखने का सुझाव दिया.

    कुछ समय के बाद जब अन्य गुट का शिष्य भी खाली हाथ लौटकर आया तो शिकायत करने वाला गुट बहुत ही हैरान व चकित हुआ. शिष्य ने गुरु को प्रणाम किया और बोला, “गुरुजी! आपको निराश करने के लिए माफ़ी चाहता हूँ. मैंने समूचा गाँव ढूँढा पर मुझे एक भी बुरा व्यक्ति नहीं मिला.”

guru2

   अपने साथी की उक्ति सुनकर शिकायत करने वाला गुट खूब ज़ोर से हँसा. 

   पर दूसरे गुट के शिष्य ने अपने कथन की व्याख्या करते हुए कहा, “गाँव के प्रत्येक वासी ने कोई न कोई अच्छा कार्य अवश्य किया है. मेरी असफलता के लिए मुझे क्षमा कीजिए.” ऐसा कहकर उसने गुरु की अनुमति ली और वहाँ से चला गया. 

   शिष्य के जाने के बाद गुरु अपने स्तंभित व चकित शिकायत करने वाले शिष्यों से बोले, “मेरे प्रिय भक्तों! हमारा विवेक अच्छा व बुरा, सही व गलत, सकारात्मक व नकारात्मक में भेद करने की क्षमता रखता है. जब हम हर चीज़ में अच्छाई की चिंगारी देखते हैं तब हमारे विवेक का और अधिक विकास होता है. इसके विपरीत दूसरों में खोट देखने पर हमारा विवेक मुरझा जाता है. 

     सीख: 

   यह संसार खुशी व दुःख का मिश्रण है. जीवन के प्रति हमारा दृष्टिकोण हमारे विवेक पर निर्भर करता है. जीवन में सकारात्मक प्रवृत्ति रखने वाले लोग शीघ्र प्रगति करते हैं और नकारात्मक प्रवृत्ति रखने वाले, यदि अग्रसर होते हैं तो, बहुत ही धीमी गति से होते हैं. गुरु के लिए सभी निकट व प्रिय हैं. यदि शिष्य स्वयं को गुरु से दूर पाता है तो उसमें दोष शिष्य का ही है. 

   “तुम जितना स्वयं को और मुझे एक समझोगे, तुम्हारा विकास भी उतना ही होगा. तुम्हारे सारे कर्म इसी मूलभूत समझ के अनुरूप होने चाहिए.”

source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

     अनुवादक- अर्चना   

    हमारे बनाए खाने पर हमारे विचार प्रभाव डालते हैं

food1

   आदर्श: धार्मिकता 

  उप आदर्श: विचारों में शुद्धता 

   मैसूर राज्य में मलूर नामक स्थान पर एक धार्मिक ब्राह्मण रहता था जो एक महान विद्वान् था. उसकी पत्नी भी उसी के समान धार्मिक थी. वह सदा पूजा और जप-ध्यान के लिए तत्पर रहता था और अपने सच्चरित्र के लिए दूर-दूर तक प्रख्यात था. एक दिन नित्यानंद नामक संयासी उसके दरवाज़े पर भिक्षा माँगने आए.

food4

संयासी को अपने घर देखकर ब्राह्मण अत्यंत खुश हुआ. उसने संयासी को अपने घर अगले दिन भोजन करने का आमंत्रण दिया ताकि वह अपने अतिथि-सत्कार से उसका सम्मान कर सके. संयासी के स्वागत के लिए ब्राह्मण ने अपने घर के दरवाज़ों पर हरे रंग की तोरण लगाई और अन्य विस्तृत व्यवस्था की. परन्तु आखिरी समय में किसी कारणवश उसकी पत्नी अपने माननीय अतिथि के लिए खाना बनाने में समर्थ थी. एक पड़ोसी महिला ने स्वेच्छा से ब्राह्मण के घर खाना बनाने में अपनी मदद पेश की. ब्राह्मण की पत्नी ख़ुशी-ख़ुशी पड़ोसी को अपने घर लेकर आई और रसोईघर से परिचित कराया.

food2food3.png

    अगले दिन सब कुछ भली भाँती निबट गया और सभी भोजन की व्यवस्थाओं से प्रसन्न और संतुष्ट थे. केवल, किसी कारणवश भोजन के दौरान संयासी अपनी प्लेट के पास रखे चांदी के कटोरे को चुराने की अत्यधिक तीव्र इच्छा के शिकार हो गए. अपनी सर्वश्रेष्ठ सचेत कोशिशों के बावजूद वह बुरा भाव नित्यानंदजी पर हावी हो गया और कटोरे को अपनी पोशाक में छुपाकर वह झटपट घर लौट आए. अपनी इस हरकत के बाद संयासी रात भर सो नहीं पाए क्योंकि उनकी अंतरात्मा उन्हें लगातार कोस रही थी. संयासी को लगा कि उन्होंने अपने गुरु का अपमान किया है और उन सभी ऋषिओं का निरादर किया है जिनका उन्होंने, मन्त्र उच्चारण करते समय, आह्वान किया था. वह तब तक बेचैन रहे जब तक कि उन्होंने ब्राह्मण के घर वापस जाकर, उसके पैरों में गिरकर और आँखों में पश्चाताप के आँसू लेकर चांदी का कटोरा वापस नहीं कर दिया. 

food5

   सभी हैरान थे कि नित्यानंद जैसा महात्मा इतना नीचे कैसे गिर सकता था. किसी ने सुझाव दिया कि संभवतः यह दोष खाना बनाने वाले व्यक्ति के माध्यम से भोजन में संचारित हुआ होगा. तत्पश्चात खाना बनाने वाली पड़ोसी की जीवनी का विवरण किया गया और लोगों ने पाया कि वह एक अदम्य चोर थी. अतिसूक्ष्म संपर्क द्वारा उस महिला की चोरी करने की प्रवृत्ति ने उसके पकाये खाने को प्रभावित किया था. इसी कारण साधकों को उपदेश दिया जाता है कि एक निश्चित अवस्था पर पहुँचने तक उन्हें फल व कंद पर ही जीवन निर्वाह करना चाहिए.

     सीख:

   ऐसा कहा जाता है कि जब भोजन प्रेम व अनुकूल विचारों से बनाया जाता है तब वह गुणकारी होता है और स्वाद में सर्वश्रेष्ठ होता है.

source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

     अनुवादक- अर्चना