भगवान में विश्वास

trust

        आदर्श: विश्वास
  उप आदर्श : भरोसा

एक नवविवाहित व्यक्ति अपनी ख़ूबसूरत पत्नी के साथ घर लौट रहा था. वह दोनों नाव से नदी पार कर रहे थे जब अचानक ही वह एक भयनाक तूफ़ान में फंस गए.

trust1trust2

वह व्यक्ति जो वास्तव में सैनिक था, भयरहित था पर उसकी पत्नी अत्यधिक डरी हुई व मायूस थी. उनकी छोटी सी किश्ती बड़ी-बड़ी प्रबल लहरों में डावांडोल हो रही थी और तूफ़ान की उग्रता से पत्नी को बहुत डर लग रहा था. उसे भय था कि किसी भी क्षण उनकी नाव उलट जाएगी और वह डूब जायेंगें. परन्तु वह व्यक्ति शांत, स्थिर व अव्याकुल था मानो कुछ भी न हुआ हो.

पत्नी ने कांपती हुई आवाज़ में अपने शांत पति से पूछा, “क्या आपको डर नहीं लग रहा है? यह हमारी ज़िन्दगी का आखिरी पल भी हो सकता है! हमारा तट पर पहुँच पाना असंभव सा लग रहा है. केवल एक चमत्कार ही हमें बचा सकता है; वरना हमारा अंत निश्चित है. क्या आपको डर नहीं लग रहा है? आप बावले हैं क्या? आप पत्थर के बने हैं क्या?

व्यक्ति हँसा और उसने कोष में से अपनी तलवार निकाली.trust3 पति को इस प्रकार तलवार निकालते हुए देखकर पत्नी और भी अधिक उलझन में आ गई और अचंभित थी कि वह क्या करने वाला है. तत्पश्चात पति अपनी तलवार पत्नी के गले के पास ले आया, इतनी करीब ले आया कि तलवार पत्नी के गले को करीब-करीब छू रही थी.

पति ने पत्नी से पूछा, “क्या तुम्हें डर लग रहा है? ”
पत्नी हँसने लगी और बोली, “मुझे क्यों डर लगेगा? भले ही आपके हाथ में तलवार है पर मैं क्यों डरूँ? मुझे पूरा विश्वास है कि आप मुझसे प्रेम करते हैं.”
पत्नी की बात सुनकर तलवार वापस रखते हुए पति बोला, “यही मेरा उत्तर है. मैं जानता हूँ कि भगवान मुझसे प्रेम करते हैं और यह तूफ़ान उन्हीं के हाथ में है.”

अतः जो भी होगा, अच्छा ही होगा क्योंकि सब कुछ ईश्वर के हाथ में है और वह कभी कुछ गलत नहीं कर सकते हैं.

सीख:
हमें स्वयं में दृढ़ विश्वास विकसित करना चाहिए. यह दृढ़ विश्वास ही हमारे जीवन को पूरी तरह से बदलने की क्षमता रखता है.

source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

अनुवादक- श्रीमती सरस्वती व अर्चना

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s