एक अमीर आदमी का मानसिक शान्ति तलाशना

 

आदर्श : शान्ति
उप आदर्श: कृतज्ञता

एक बहुत ही अमीर व्यक्ति था जो अपनी जिंदगी से पूरी तरह ऊब चुका था. वह हर प्रकार की सम्पदा से संपन्न था और उसके पास वह हर खुशी थी जो पैसे से खरीदी जा सकती थी. rich1पर इन सब के बावजूद भी वह संतुष्ट नहीं था. वह अभी भी वास्तविकता की तलाश में था. वह बहुत से ऋषियों तथा महात्माओं से पूछताछ कर चुका था और उनके द्वारा सुझाये पूजन, अर्चन, उपासना तथा संस्कारों का पालन करने के बाद भी वह असंतुष्ट था.

अंततः वह अमीर व्यक्ति एक अन्य संत के पास गया और उसे सविस्तार अपनी व्यथा सुनाने लगा- “समय बीतता जा रहा है. जीवन सीमित है. तुम किस प्रकार के संत हो? तुम मुझे सही मार्ग भी नहीं rich2दिखा सकते. मैं अपने २४ घंटे समर्पित करने को तैयार हूँ- मुझे आजीविका कमाने के लिए काम करने की आवश्यकता नहीं है, मेरे बच्चे नहीं हैं और मैंने इतना पैसा कमा लिया है कि दस जन्मों के लिए पर्याप्त है.” उस महात्मा ने अमीर व्यक्ति को एक सूफी संत के पास भेज दिया. इस सूफी को लोग पागल समझते थे और कई साधु अक्सर अपने शिष्यों से छुटकारा पाने के लिए उन्हें इस सूफी के पास भेज दिया करते थे. परंतु यह सूफी पागल केवल दिखता था: वास्तव में वह बहुत ही बुद्धिमान था.

rich4

अमीर आदमी ने एक बड़े से बोरे में हीरे-जवाहरात भरे और सूफी के पास गया. rich3सूफी एक पेड़ के नीचे बैठा हुआ था. उसने सूफी से अपनी सारी कहानी सुनाई – कि उसके पास दुनिया की वह हर चीज़ थी जो खरीदी जा सकती थी पर फिर भी वह अत्यंत दुखी था. अमीर व्यक्ति ने सूफी से कहा, “प्रमाण के रूप में मैं यह थैला लाया हूँ जिसका मूल्य करोड़ों का होगा. मुझे केवल मन की शान्ति चाहिए.” इसपर सूफी बोला, “मैं तुम्हें मन की शान्ति अवश्य दूँगा. तुम तैयार हो न?” अमीर व्यक्ति ने सोचा, “यह आदमी तो बहुत ही अजीब लगता है. इससे पहले मैं इतने सारे साधुओं के पास गया पर किसी ने भी मुझे इतनी जल्दी शान्ति का वादा नहीं दिया था. सबने किसी न किसी प्रकार के संस्कार, पूजा, प्रार्थना या चिंतन के लिए कहा या फिर मुझे इन सबसे स्वयं ही निबटने के लिए कहा. केवल यह ही ऐसा व्यक्ति है…..शायद लोग ठीक ही कहते हैं कि यह पागल है.”

कुछ हिचकिचाते हुए उसने कहा, “अच्छा, मैं तैयार हूँ.” हालाँकि वह मन की शान्ति की खोज में आया था पर अंदर ही अंदर वह डरा हुआ था. जैसे ही उसने कहा कि वह तैयार है, सूफी ने अमीर व्यक्ति के हाथ से उसका थैला लिया और वहाँ से भाग गया.

उस छोटे से गाँव की गलियाँ बहुत ही पतली और संकुचित थीं और सूफी उन सब से भली भाँती परिचित था.rich6 अमीर आदमी अपने जीवन में कभी नहीं भागा था पर अपने थैले के लिए सूफी के पीछे भागते हुए चिल्ला रहा था, “मेरे साथ धोखा हुआ है! यह आदमी कोई संत नहीं है. यह पागल भी नहीं है. यह तो बहुत ही चालू है.” पर वह सूफी को पकड़ नहीं पाया क्योंकि सूफी गाँव की विभिन्न टेढ़ी-मेढ़ी व संकरी गलियों से बहुत तेज गति से भाग रहा था. अमीर व्यक्ति मोटा था अतः उसे हांफते, रोते तथा पसीने से भरा देखकर सभी लोग उसपर हॅंस रहे थे. गाँव वालों को यह अच्छे से मालूम था कि सूफी पागल नहीं, अत्यंत बुद्धिमान था. उसका काम करने का ढंग कुछ अलग ही था.

अंततः अमीर व्यक्ति उसी पेड़ पर पहुँच गया जहाँ उसे शुरू में सूफी बैठा मिला था. सूफी वहाँ पहले से ही पहुँचा हुआ था. सूफी वहाँ थैले के साथ बैठा हुआ था. अमीर आदमी अभी भी गुस्से से चिल्ला रहा था और अपशब्द बोल रहा था. सूफी बोला, “बकवास बंद करो और अपनी थैली ले लो.”

अमीर आदमी ने झटपट सूफी के हाथ से अपनी थैली ले ली. rich5सूफी ने पूछा, “तुम्हें कैसा महसूस हो रहा है?” व्यक्ति बोला, “मुझे प्रचुर शान्ति का अनुभव हो रहा है.” सूफी ने कहा, “मैं तुम्हें यही बताना चाह रहा था कि अगर तुम तैयार हो तो मैं तुम्हें तुरंत शान्ति दे सकता हूँ. तुम्हें शान्ति मिल गई?” उसने उत्तर दिया, “हाँ, मुझे मिल गई.”

sufi8

इसके बाद सूफी ने उस व्यक्ति को सुझाव दिया, “दुबारा कभी किसी को इसके बारे में मत पूछना. तुम अपनी धन-संपत्ति का सही मूल्य नहीं समझते हो. मैंने तुम्हें तुम्हारी दौलत से एक बार अलग किया और तुम फौरन वह बन गए जो तुम वास्तव में हो- एक भिखारी. और यह अनमोल पत्थर जो पहले तुम्हें निरर्थक प्रतीत हो रहे थे, अचानक एक बार फिर अमूल्य बन गए. पर ऐसा अक्सर होता है.”

           सीख:

जो लोग महलों में रहते हैं वे उसका महत्त्व भूल जाते हैं; जो लोग अमीर होते हैं वे गरीबों के कष्ट के बारे में नहीं सोचते हैं. जिन लोगों का गुरु होता है, उनके लिए गुरु घर की मुर्गी के समान होता है. उन्हें लगता है कि वे जब चाहें गुरु से सवाल कर सकते हैं और गुरु उनके हर प्रश्न का उत्तर दे देंगें. जीवन में हमें जो भी उपहार में मिला है उसे हमें बहुमूल्य समझकर संजोकर रखना चाहिए.

rich9

source: http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

अनुवादक- अर्चना

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s