पंख की कहानी

एक दिन एक लड़के ने अपने सहपाठी के बारे में झूठी व प्रतिकूल अफ़वाह फैलाई.rumor वह लड़का धर्म से ईसाई था और हर रविवार गिरजाघर जाता था. इस कारण उसे मालूम था कि गिरजाघर में अपराध-स्वीकरण के लिए एक बॉक्स होता है,rumor3 जहाँ लोग पादरी को अपनी गलतियों के बारे में बताकर भगवान से क्षमा माँग सकते थे. इस लड़के को अहसास हुआ कि उसने अपने सहपाठी के बारे में अफ़वाह फैलाकर उसे काफी दुःख पहुँचाया था.rumor1

गिरजाघर में एक दयालु पादरी थे जो बच्चों को उनकी परेशानियों में मदद करते थे.rumor4 जब इस लड़के ने पादरी के सामने अपना अपराध-स्वीकरण किया rumor2और उन्हें बताया कि उसने अपने सहपाठी का दिल दुखाया है तब पादरी ने धैर्यपूर्वक उसकी बात सुनी. लड़के के लिए ईश्वर से क्षमा की प्रार्थना करने से पहले, पादरी चाहते थे कि वह बालक अपनी करनी के प्रभाव को समझे. इसलिए पादरी ने लड़के से कहा कि एक दिन जब तेज़ हवा चल रही हो तब वह पंख से भरा थैला लेकर एक पहाड़ी की चोटी पर जाए.rumor5 पादरी ने कहा कि चोटी पर पहुँचकर वह थैला खोलकर सारे पंखों को उड़ने दे.rumor7 फिर अगले दिन पुनः वहाँ जाकर सारे पंखों को एक-एक करके उठाए. पादरी की बात सुनते ही लड़के ने तुरंत जवाब दिया कि प्रत्येक पंख को चुनना असंभव है. तब पादरी ने लड़के को समझाया कि ठीक ऐसा ही अफ़वाह के साथ भी है. एक बार अफ़वाह फ़ैल जाने पर उसे रोकना अत्यंत कठिन होता है और उसे अनकिया भी नहीं किया जा सकता है. लड़के से हानि हो चुकी थी अतः पादरी ने उसे आगाह किया कि भविष्य में उसे बहुत सावधान रहना होगा ताकि दुबारा ऐसा कभी किसी और के साथ न हो.

लड़के ने सबक सीखा और दुबारा कभी भी यह गलती नहीं दोहराई.

सीख:
हमें दूसरों के लिए बुरा नहीं बोलना चाहिए. जब हमें किसी के बारे में तथ्य मालूम नहीं हों, तो हमें झूठी ख़बर कभी नहीं फैलानी चाहिए. इससे बहुत से लोगों की भावनाओं को चोट पहुँच सकती है. ज़ुबान से निकले शब्द कभी वापस नहीं आते हैं. एक बार हुई गलती कभी संवर नहीं सकती. निशान या खरोंच सदा बरकरार रहती है. अतः हमें सदा सोच-समझकर बोलना चाहिए.

rumor8

http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

अनुवादक- अर्चना

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s