सफाई करने वाली महिला

cleaning lady

           आदर्श : उचित आचरण
      उप आदर्श : आदर

कॉलेज के मेरे दूसरे महीने के दौरान, हमारे प्रोफ़ेसर ने हमें एक प्रश्नोत्तरी दी. मैं एक निष्ठापूर्ण छात्र था और मैंने आखिरी प्रश्न छोड़कर, सारे प्रश्नों का आसानी से उत्तर दे दिया. cleaning lady1आखिरी प्रश्न था :
“जो महिला विद्यालय साफ़ करती है उसका क्या नाम है?”
अवश्य ही यह किसी किस्म का मज़ाक था. मैंने सफाई करने वाली औरत को अनेकों बार देखा था. वह लम्बी, काले बालों वाली थी तथा उसकी उम्र ५० वर्ष के लगभग थी. पर मुझे उसका नाम कैसे मालूम होगा?

आखिरी प्रश्न रिक्त छोड़कर मैंने अपना पेपर दे दिया. ठीक कक्षा समाप्त होने के पहले एक छात्र ने प्रोफ़ेसर से पूछा यदि आखिरी प्रश्न की गिनती हमारे प्रश्नोत्तरी की ग्रेडिंग में होगी.

“बिलकुल,” प्रोफ़ेसर ने कहा, “अपने व्यावसायिक जीवन में तुम बहुत सारे लोगों से मिलोगे. सभी महत्वपूर्ण हैं. वे तुम्हारे ध्यान व आदर के पात्र हैं, भले ही तुम केवल मुस्कुराकर उन्हें ‘नमस्ते’ बोलो.”

मुझे वह सबक कभी नहीं भूला है. मैंने यह भी सीखा कि उस महिला का नाम डोरोथी था.

        सीख:

ऐसे बहुत सारे लोग हैं जो हमारी ज़िन्दगी को सुखद व आसान बनाते हैं. हम उनका महत्व नहीं समझ पाते. क्या हम अनुमान लगा सकते हैं कि ऐसे लोगों के बिना हमारा जीवन कितना मुश्किल होगा? आइए थोड़ा समय निकालकर इन व्यक्तियों को कम से कम एक मुस्कान या धन्यवाद या फिर शुभकामना दें.

http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

अनुवादक- अर्चना

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s