भगवान से भेंट

आदर्श : प्रेम
  उप आदर्श : देख भाल

एक बार एक नन्हा बालक था जो भगवान से मिलना चाहता था. उसे मालूम था कि जहाँ भगवान रहतें हैं, वहाँ तक की यात्रा लम्बी है. इसलिए उसने अपना सूटकेस कप केकरुट बीयर के बहुत सारे डिब्बों से भरा और अपनी यात्रा शुरू कर दी.

जब वह कुछ दूर ही गया था तो उसको एक बुजुर्ग महिला दिखी.meet god वह एक पार्क में बैंच पर बैठकर कबूतरों को देख रही थी. लड़का उसके पास बैठ गया और उसने अपना सूटकेस खोला. वह बीयर पीने ही वाला था कि उसने देखा कि वह औरत भूखी लग रही थी. अतः उसने महिला को एक कप केक दे दिया.meet god1महिला ने कृतज्ञता से स्वीकार किया और मुस्कुराई.

उसकी मुस्कान इतनी मोहक थी कि वह लड़का उस मुस्कान को दोबारा देखना चाहता था. अतः उसने महिला को बीयर भी दे दी. महिला एक बार फिर मुस्कुराई.meet god2 लड़का आनंदित हो गया. और इस प्रकार बिना कुछ बोले, सारी दोपहर, वे दोनों खाते और मुस्कुराते वहाँ बैठे रहे.

जैसे अँधेरा होने को आया, लड़के को अनुभव हुआ कि वह कितना थक गया था और वह घर जाना चाहता था. वह जाने के लिए उठा और अभी कुछ दूर ही गया था कि वह वापस मुड़ा, भागकर उस महिला के पास गया और उसे ज़ोर से गले लगाया. महिला ने भी उसे बड़ी-सी मुस्कान दी.

जब लड़का घर पहुँचा तो उसके चेहरे पर ख़ुशी देखकर उसकी माँ को आश्चर्य हुआ. माँ ने पूछा, “आज तुम्हें किस बात से इतनी ख़ुशी हुई है?” उसने जवाब दिया, “मैंने भगवान के साथ खाना खाया.” इसके पहले कि उसकी माँ कुछ कहती, लड़का बोला, “आपको पता है! उसकी मुस्कान सारे जहान में सबसे खूबसूरत है.”

इस दौरान वृद्ध महिला, जिसका चेहरा भी ख़ुशी से चमक रहा था, अपने घर पहुँची. महिला का शांत चेहरा देखकर उसका बेटा हैरान था. उसने पूछा, “माँ, आज तुम्हें किस बात से इतनी ख़ुशी हुई है?” महिला ने उत्तर दिया, “मैंने पार्क में भगवान के साथ कप केक खाए.” और इसके पहले कि उसका पुत्र उत्तर देता, उसने कहा, ” पता है भगवान, मेरी अपेक्षा से कहीं अधिक जवान हैं.”

सीख:

हम अक्सर एक स्पर्श, मुस्कान, मृदु बोल सुनने वाले कान, एक सच्ची प्रशंसा या देखभाल के अति तुच्छ कार्य की शक्ति का अनुमान नहीं लगा पाते हैं. परन्तु इन सब में जीवन बदलने का सामर्थ्य है. हमारी ज़िन्दगी में लोग किसी विशेष कारण, अवधि या जीवनकाल के लिए आते हैं.

http://www.saibalsanskaar.wordpress.com

अनुवादक- अर्चना

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s